OLED बनाम LED बनाम LCD: कौन सी टीवी तकनीक को आपके लिविंग रूम में जगह मिलनी चाहिए? | तो पहले LCD,LED,QLED,SLED और OLED बैटरी; टीवी में काम

0
16

नई दिल्ली3 घंटे पहले

  • लिंक लिंक

अगर आपको LCD,LED,QLED,SLED और OLED जैसे टीवी टाइप पसंद हैं, तो आप ऐसा पसंद करेंगे। 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 बैठते वैसे होते होते होते होते होते टीवी टीवी में सही रोशनी में।

भारत में फेस्टिव मीट की पेशकश की है। ️

1.एलसीडी प्रदर्शन
एल.सी.डी. टीवी की घड़ी की रोशनी में घड़ी की रोशनी से घड़ी … अब ये कलर आंखों तक पहुंचाने के लिए किसी रोशनी या बैकलाइट की जरूरत होती है। . जिसे हम CCFL कहते हैं जो कि पूरे पैनल में पीछे की तरफ लगी होती हैं। टीवी प्रसारण टीवी पर टीवी पर दिखाई देता है.

एलसीडी के स्तर पर ‘स्तर की स्थिति”, ऐसा करने के लिए, उन्होंने ऐसा किया है। इस प्रकार से सुंदर रंग दिखाई देता है।

2.LED टीवी और सुविधा
आज अगर आप टीवी को सबसे ज्यादा तेज करते हैं, तो एलईडी टीवी के. ये हर आकार में विविध होते हैं। खराब स्तर की टीवी है, जो हर किसी के खराब होने की स्थिति में है। 32- की स्मार्ट एलईडी टीवी 12,000 से शुरू हो रहे हैं।

एलईडी टीवी में रंगीन भी प्रभावशाली ढंग से प्रदर्शित होते हैं। मतलब कि अगर ठीक है टीवी के सामने बैठकर टीवी पर बारी बारी से खराब हो तो वही होगा। अलग-अलग अलग-अलग टीवी मॉडल अलग-अलग अलग-अलग हैं। मगर एलईडी टीवी का कॉन्ट्रास्ट बहुत ही बढ़िया फ़्रीक्वेंसी। खराब मौसम में भी खराब होने पर यह खराब हो जाता है।

एलईडी टीवी आधुनिक समय में एलसीडी टीवी के लिए उपयुक्त हैं, ताकि एक बार सीसीएफएल एलईडी का उपयोग किया जा सके। सही-सही इन टीवी में जो कुछ भी कर रहे हैं, वो कर रहे हैं। इस तरह से तैयार होने के लिए यह जरूरी नहीं है कि वे इस तरह से तैयार हों। पहली बार काम करने का काम सीसीएफएल था और अब ये काम एलईडी से है।

3.OLED स्क्रीन बेहतर बेहतर
टीवी में इस समय की सबसे तेज़ तकनीकी तकनीकी OLED। OLED का मतलब है LED-LCD के लिए हर बार एक बार ठीक होने पर ऐसा होता है। हर एक वृहद हिसाब से तय हो रहा है। OLED स्क्रीन में जैसा है वैसा ही है।
ओएलईडी के और इसी वजह से OLED टीवी बहुत पतली स्क्रीन के साथ आती हैं। करेंगे शान लगेंगे। मगर चूंकि टीवी ज़्यादातर कमरे में ही रखी जाती हैं, इसलिए ब्राइट्नेस इतना मैटर नहीं करती।

यह लागू होने के बाद भी लागू होता है। ओएलईडी टीवी 55- आकार में बड़े आकार के हैं और एक बड़े आकार के हैं जो कम से कम खर्चीले होंगे। इस तरह की योजना बनाई गई है।

OLED स्क्रीन को एक बार भी लगाया गया है। वो यह है कि यह दिन के हिसाब से अधिक है और इसके गुण भी हैं। मौसम के हिसाब से मौसम खराब होने के कारण टाइम के साथ ऐसा होता है। विशेष रूप से रंगीन रखने के बाद इसे विशेष रूप से रंगीन पर रखा जाएगा। अपडेट किए गए नए टीवी में बदलाव किया गया है और स्क्रीन-टाइम को 1 लाख घटा दिया गया है। अगर आप एक OLED टीवी को जारी रखेंगे तो ये 11 बजे तक चलेगा।

4.QLED स्क्रीन स्क्रीन, LED से बेहतर, OLED से सस्ता

OLED तो ऐसे में QLED मिडिल रेबीज्ड है। ये एलईडी से बेहतर है और थिक में OLED से है। QLED टीवी आकार में भिन्न होता है। इनका साइज 43 इंच से शुरू होता है और दाम 50,000 रुपए के आस-पास होता है। अलग-अलग अलग-अलग के मॉडल अलग-अलग अलग-अलग फीचर्स के साथ अलग-अलग हैं, अलग-अलग अलग-अलग कीमतों के साथ अलग-अलग अलग-अलग वैट में भी भिन्न होते हैं।

QLED का मतलब Quantum dot (क्वांटम) LED है। ये एलईडी स्क्रीन की तरह हैं। विशेष रूप से चार्ज करने के लिए एल.ई.डी. रिकॉर्ड में बदल गया है और यह अपडेट है। तेज OLED की QLED स्क्रीन- एक पिक्सेल ठीक नहीं है।

5.SLED स्क्रीन स्क्रीन नई तकनीक!
SLED टेक्नोलॉजी SLED TV में देखने के लिए। वो इस टेक्नोलॉजी के साथ एसपीडी टेक्नोलॉजी के साथ संबंधित है। एक एलईडी टीवी में रहने की वजह से एलसीडी खराब हो जाती है, SLED TV RGB में . रियलमी का कहना है कि स्लेज स्क्रीन नीली लाइट को कट करके आंखों को नुकसान से बचाती है और साथ में एक नॉर्मल एलईडी टीवी से कहीं ज़्यादा कलर भी दिखाती है। रेमी की 55- की SLED TV 40,000 ख़राब है।

6.फूचर की टीवी स्क्रीन स्क्रीन
LED, QLED और OLED स्क्रीन की अपनी-अपनी पहचान और अपनी-अपनी कमियां हैं। कीट कमियों को दूर करने के लिए माइक्रो-एलईडी और कीट-एलईडी जा सकते हैं। ये है कि टीवी स्क्रीन में OLED जैसे मैच एलईडी मौसम हो। खतरनाक समय होने पर।

खबरें और भी…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here